DISCOUNT 25%

Jara Yaad Unhen Bhi Kar Lo By Chiranjeev Sinha (Hindi) (Prabhat Prakashan) (9789355213815)

225.00

(25% OFF)

Add Rs. 45/- for PAN India delivery
Free delivery by Registered post for orders above Rs. 499

In stock

SKU: Prabhat-22-H-369 Categories: , ,

instock Guaranteed Service International Shipping Free Home Delivery

Description

DESCRIPTION

“साधारणतया भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का कालखंड 1857 से 1947 तक माना जाता है, लेकिन विदेशी शासन का सबल प्रतिरोध इससे 332 वर्ष पहले सन्‌ 1525 में ही प्रारंभ हो गया था, जब कर्नाटक के उलल्‍लाल नगर की रानी अब्बका चौटा, जो अग्निबाण चलानेवाली भारतवर्ष की अंतिम योद्धा थी, ने बढ़ते पुर्तगाली आधिपत्य को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था।

इस संग्रह में 1525 से 1947 अर्थात्‌ लगभग सवा चार सौ वर्षों तक अनवरत प्रवहमान रहे विश्व के सर्वाधिक लंबे समय तक चले स्वतंत्रता संग्राम का वर्णन किया गया है। सबसे कम आयु में माँ भारती के लिए बलिदान होनेवाले ओडिशा के 12 वर्षीय बाजीराव राठउत के अमर बलिदान को पढ़कर भला कौन किशोर और युवा रोमांचित नहीं होगा! दुर्गा भाभी तमाम बंदिशों को धता बताते हुए किस चतुराई से भगत सिंह को अंग्रेजों की नाक के नीचे से लाहौर से कलकत्ता निकाल ले गईं, यह आज भी मिशन शक्ति की प्रेरणा है। तात्या टोपे की बिटिया मैना देवी ने जनरल आउट्रम के सामने झुकने की जगह जिंदा आग में जलना स्वीकार किया और अजीजन बाई ने यह दिखाया कि समाज का हर तबका चाहे वह तवायफ ही क्‍यों न हो, देश की आजादी के लिए मर-मिटने को तैयार रहता है।

भारतवर्ष के ऐसे ही 75 वीरों और वीरांगनाओं का दाँतों तले उँगली दबाने सदृश अनछुआ वर्णन जो इन अनजाने क्रांतिवीरों के प्रति स्वाभाविक श्रद्धा और सम्मान सृजित करेगा ।”



Author: Chiranjeev Sinha
Publisher: Prabhat Prakashan
ISBN-13: 9789355213815
Language: Hindi
Binding: Paper Back
Product Edition: 2022
No. Of Pages: 208
Country of Origin: India
International Shipping: No

Additional information

Weight 0.318 kg

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jara Yaad Unhen Bhi Kar Lo By Chiranjeev Sinha (Hindi) (Prabhat Prakashan) (9789355213815)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *